गहाराया जल संकट!, पानी को तरसते आदिवासी!

मध्य प्रदेश मुख्य पृष्ठ

नमस्कार… जनमुद्दा में आपका स्वागत है… मैं हूं देवेंद्र कुशवाहा… आज जन मुद्दें में हम बात करेंगे मझगवां ग्राम पंचायत के मिचकुरीन गांव की… जहां नल- जल योजना के तहत हर गांव में टोंटी तो लगा दी गई है… लेकिन उसमें पानी का टोटा हमेशा बना रहता है… तो आइए शुरु करते हैं… जम मुद्दा… मध्य प्रदेश के सतना में जिले के मझगवां ब्लॉक मुख्यालय की… मझगवां ग्राम पंचायत के आदिवासी… पानी को तरस रहे है… मिचकुरीन गांव में बरसात के 4 महीने छोड़ बाकी पूरे साल पीने का संकट बना रहता है… इस गांव में मात्र एक कुआं है… जो नवंबर- दिसम्बर में ही सूखने लगता है… वहीं पीएचई विभाग ने पूरी आदिवासी बस्ती में नल-जल योजना के तहत पाइप लाइन डाली… बकायदा हर घर में नल की टोंटी भी लगाई… लेकिन इस टोंटी में ही पानी को टोंटा लगा हुआ है… हां दिन में एक-दो बार घंटे भर के लिए पानी जरुर आता है… जब दर्शन होते है तो इनके सामने लम्बी कतार लग जाती है